Breaking

Saturday, 10 August 2019

Independence Day Speech in Hindi | 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण


Independence Day Speech in Hindi | 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 

Independence day speech in hindi, 15 august speech in hindi
Independence day speech in hindi 

15 august independence day- दोस्तों नमस्कार आज हम आपको इस महान दिन के बारे मे बताएंगे, भारत मे हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के रूप मे मनाया जाता है, हम भारतीयों के लिए 15 अगस्त का दिन बहुत ही खास और जश्न वाला दिन है | आज ही के दिन 15 August 1947 को हमारे देश ब्रिटिश सरकार से आज़ादी मिली थी | इस दिन को आज़ादी का दिन भी कहा जाता है | इस दिन सभी School, college और office मे झण्डा फहराकर स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है | इस दिन को हर साल भारत के उन स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित किया जाता है,  जिन्होंने अंग्रेज़ों के चंगुल से भारत को आज़ाद कराने मे अपने प्राण गवा दिए | हमारे कुछ महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और उनके नेताओं के नाम है | महत्मा गाँधी, लाल बहादुर शास्त्री, भगत सिंह, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाला लाजपत राय, चन्द्र शेखर आज़ाद, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, जवाहरलाल नेहरू, बाल गंगाधर तिलक, खुदीराम बोस आदि | ये प्रसिद्ध देशभक्त थे जिन्होंने अपने जीवन के अंत तक भारत की आज़ादी के लिए कठिन संघर्ष किया | हमारे पूर्वजो द्वारा संघर्ष के उन भयानक दिनों की कल्पना भी नहीं कर सकते हमलोग | आज़ादी के बर्षो बाद भी हमारा देश विकास की सही राह पर है | आज हमारा देश  पूरी दुनिया मे लोकतान्त्रिक देश के रूप मे अच्छे से स्थापित है | गाँधी जी एक महान नेता थे जिन्होंने अहिंसा और सत्याग्रह जैसे आज़ादी के असरदार तरीको के बारे मे हमें बताया | अहिंसा और शांति की राह के साथ स्वतंत्र भारत के सपने को गाँधी जी ने देखा | भारत हमारी मातृभूमि है और हम इसके नागरिक है | हमें हमेशा अपने देश को बुरे लोगो से बचाने के लिए तैयार रहना चाहिए यह हमारा कर्तव्य है | 15 अगस्त 1947 को जब दुनिया के कई हिस्सों मे लोग गहरी नींद मे सो रहे थे | उस समय भारत मे जश्न का माहौल था | लोगो को आँखों मे नींद नहीं थी और न ही कोई आलस था | देश को अंग्रेज़ी हुकूमत से आज़ादी मिलने की ख़ुशी ऐसी थी | कि सबकी आँखों मे आने वाले नए भारत के सपने तैर रहे थे | ऐसे माहौल मे देश पहले प्रधानमंत्री स्वर्गीय पंडित जवाहरलाल नेहरू जी ने आज़ादी का पहला भाषण दिया था | इस भाषण को "ए ट्रिस्ट विद डेस्टिनी" के नाम से जाना जाता है | तो चलिए जानते है क्या कहा था उन्होंने अपने भाषण मे !

Pandit Jawaharlal Nehru Speech

हमने नियति को मिलने का एक वचन दिया था, और अब समय आ गया है कि हम अपने वचन को पूरा करें, पूरी तरह न सही, लेकिन बहुत हद्द तक |  आज रात बारह बजे जब सारी दुनिया सो रही होगी, भारत जीवन और स्वतंत्रता की नई सुबह के साथ उठेगा |  एक ऐसा क्षण जो इतिहास मे बहुत ही कम आता है | जब हम पुराने को छोड़ नए की तरफ जाते है, जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षो से शोषित एक देश की आत्मा अपनी बात कह सकती है | यह एक संयोग है कि इस पवित्र मौके पर हम समर्पण के साथ खुद को भारत और उसकी जनता की सेवा, और उससे भी बढ़कर सारी मानवता की सेवा करने के लिए प्रतिज्ञा ले रहे है |

Independence Speech in Hindi | स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 

यहाँ मौजूद मेरे प्यारे मित्रो और आदरणीय अध्यापको आप सभी को सुबह का नमस्कार | जैसा की आप सब जानते है, आज 15 अगस्त है और आज ही के दिन 15 अगस्त 1947 को हमारे देश को ब्रिटिश सरकार से  आज़ादी मिली थी | और आज हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप मे मानाने के लिए इकठ्ठा हुए है,  ये दिन हम पुरे उत्साह और खुशी के साथ मानते है |  आज हम लोग यहाँ 15 अगस्त 2019 को 73वा स्वतंत्रता दिवस मानाने आये है, हम सब भारतीयों के लिए ये बहुत महान और महत्वपूर्ण दिन है | कई वर्षो तक अंग्रेज़ों के क्रूर बर्ताव को हम भारतीयों ने सहन किया | आज हम लोग सभी क्षेत्रों मे आज़ाद है जैसे शिक्षा, परिवहन, खेल, व्यापार आदि ये केवल हमारे पूर्वजो के संघर्षो और बलिदान के बल पर ही संभव हो सका है जो आज हम चैन की सांस ले रहे है और आराम से अपने घर मे हसीं खुशी जीवन व्यतीत कर रहे है | 1947 से पहले भारतीय लोगो पर बहुत पाबन्दी थी यहां तक उनका अपने दिमाग़ और शरीर पर भी कोई अधिकार नहीं था | वो अंग्रेज़ों के गुलाम थे और उनके हर हुक्म को मानने के लिए मजबूर थे | आज हम कुछ भी करने के लिए पूरी तरह से आज़ाद है उन महान नेताओं की वजह से जिन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ आज़ादी पाने के लिए कई वर्षो तक कड़ा संघर्ष किया | बहुत खुशी के साथ पुरे भारत मे स्वतंत्रता दिवस को मनाया जाता है | आज़ादी के बाद हमें अपने राष्ट्र और मातृभूमि से सारे मूलभूत अधिकार मिले | हमें अपने भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए और अपने सौभाग्य की प्रशंसा करनी चाहिए कि हम आज़ाद भारत की भूमि मे पैदा हुए है | गुलाम भारत का इतिहास सबकुछ बयां करता है कि कैसे हमारे पूर्वजो ने कड़ा संघर्ष किया और ब्रिटिश शासन के क्रूर यातनाओ को सहन किया | हम यहां बैठकर इस बात की कल्पना भी नहीं कर सकते कि ब्रिटिश शासन से आज़ादी कितनी मुश्किल थी | इसने अनगिनत स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन का बलिदान और 1857 से 1947 तक कई दशकों का संघर्ष लिया है | भारत की आज़ादी के लिए अंग्रेज़ों के खिलाफ सबसे पहले आवाज़ ब्रिटिश सेना मे काम करने वाले सैनिक मंगल पांडे ने उठाई थी | बाद मे कई स्वतंत्रता सेनानियों ने संघर्ष किया और अपने पुरे जीवन को आज़ादी के लिए दे दिया | हम कभी भी भगत सिंह, चन्द्र शेखर आज़ाद, और खुदीराम बोस को नहीं भूल सकते जिन्होंने बहुत कम उम्र मे देश के लिए लड़ते हुए अपनी जान गवां दी | कैसे हम सुभाष चंद्र बोस और गाँधी जी के संघर्ष को दरकिनार कर सकते है | गाँधी जी एक महान व्यक्तित्व थे जिन्होंने भारतीयों को अहिंसा का पाठ पढ़ाया था | वह एकमात्र ऐसा नेता थे जिन्होंने अहिंसा के माध्यम से देश को आज़ादी का रास्ता दिखाया और अंततः लम्बे संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 को वो दिन आया जब भारत को आज़ादी मिली |
हमलोग काफी भाग्यशाली है कि हमारे पूर्वजो ने हमें खुशी और शांति की धरती दी है | जहां हम बिना डरे पूरी रात सुकून से सो सकते है और अपने स्कूल तथा घर मे पूरा दिन मस्ती कर सकते है | हमारा देश तेज़ी से तकनीक, शिक्षा, खेल, वित्त, और कई दूसरे क्षेत्रों मे विकसित कर रहा है | जो की बिना आज़ादी के संभव नहीं था | परमाणु ऊर्जा मे समृद्ध देशो मे एक भारत है | ओलम्पिक, कॉमनवेल्थ गेम, एशियन गेम्स, जैसे खेलो मे हम सक्रिय रूप से भागीदारी करने के द्वारा हमलोग आगे बढ़ रहे है | हमें अपनी सरकार चुनने की पूरी आज़ादी है और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का उपयोग कर रहे है | हाँ हम आज़ाद है लेकिन हमें खुद को देश के प्रति ज़िम्मेदारियों से आज़ाद नहीं समझना चाहिए | देश के ज़िम्मेदार नागरिक होने के नाते किसी भी आपात स्थिति के लिए हमें हमेशा देश के लिए तैयार रहना चाहिए |

हमारे प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद जिन्होंने कहा था 

"हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को हमने एक ही संविधान और  संघ मे पाया है जो देश मे रहने वाले 320 लाख पुरुषों और महिलाओ के कल्याण की ज़िम्मेदारी लेता है" !


और आज सबसे बड़ी अफ़सोस की बात यह है कि हमने स्वतंत्रता के मोल को समझा ही नहीं | यह बहुत शर्म की बात है कि आज़ादी के 73 साल बाद भी हम आज अपराध, हिंसा और भ्रष्टाचार से लड़ रहे है | अब हमें दुबारा एकसाथ मिलकर अपने देश को इन बुरी चीज़ो से दूर रखना होगा और एक सफल विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा | हमें गरीबी,  बेरोज़गारी, अशिक्षा, प्रदूषण, असमानता, ग्लोबल वार्मिंग, जाति धर्म भेदभाव जैसी आदि चीज़ो को समझना होगा और इनका हल भी खोजना होगा | और भ्रष्ट लोगो के खिलाफ आवाज़ उठानी होगी जो भारत की एकता को तोड़ना चाहते है जो हिन्दू मुस्लिम के नाम पर आज भारत मे नफरत फैला रहे है | तभी हमारा भारत देश पूरी तरह से आज़ाद होगा !!
जय हिन्द, वन्देमातरम, हिंदुस्तान ज़िंदाबाद



Note: -  Independence day speech in hindi कैसी लगी    आप सबको प्लीज हमें कमेंट करके जरूर बताएं और हमारे द्वारा लिखे गए  आर्टिकल में आपको कोई भी कमी नजर आती है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं हम उसमें सुधार करके अपडेट कर देंगे | अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आए तो इसे Facebook,  WhatsApp और अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें !




No comments:

Post a Comment